वरखा पाणी – रूँखड़ा रे साणी

(वर्षा और पेड़ पौधो के संबंध पर मेवाड़ी भाषा में एक लेख)

raindropsशैर तो शैर, गामाँ गामाँ में पाणी री मारा मारी चाल री है जा वरस दर वरस वद्तीज जाइरी है। जठे छा तक नीं वेचवा रो कायदो हो, वठे आज खुल्ले आम पाणी वेचाई रियो है। चौमासो तो दुमासो वइग्यो ने वरखा रा दन अने घंटा गण्या थका रइग्या। एकीज गाम रा एक फळा में वरखा वरस री व्हे तो दूजो फळो हूको मले। अणा सब हालताँ रो कारण आपाँणों लालच अने बेपरवाई है।

पेली खेताँ में रेंट ऊॅँ पाणी पावता जो घेड़ाँ वाली माळ कूड़ा में घणी न घणी दस पन्द्रा मीटर ग्हेरी जाती। अणी ऊँ ऊंडो पाणी उतरतो तो सबूरी करनी पड़ती। पण अबै जणी रे पूगे आवै वो सौ-डेड़ सौ मीटर ऊंडो ट्यूब वैल खोदावे जो रेंट वच्चे चार गुणों पाणी दे अने पास पड़ौस में भलेई खेत पाणी वना हूका पड्या वो आपाणें ऊँनाळा में भी साग सब्जी व्हे, घर में नोट आवे अने मन राजी रे। पण यो काम बैंक में बाप दादा री जमा पूंजी काड़वा हरीको हे और लंबा टैम री होचाँ तो आगली पीढ़ी रे वाते काँटा वावा रो हे। अणी रीत रे चालता पाणी रो सेजो नीचो वेतो जावे, कूड़ा रीत जावे अने रूँखड़ा री जड़ाँ ने पाणी नी मलवा ऊँ वी हुकावा लागे।

treeरूँखड़ा व्हे तो वरखा रो पाणी पैली रूँखड़ा रै पाना पै पड़े, पछे नीचे झाड़ झँखाड़ पै आवे अने पछे धरती पै। आधो घंटो वरखा वरसे तो पाणी रुकतो रुकतो दो तीन घंटा तक धीमो घीमो वैवे जणी करताँ जमीं में वत्तो उतरे। उत्रया थका अणी पाणी ऊँ जमी में हेजो रे अर यो पाणी धीरे धीरे पाछो नंद्याँ रे कनारे निकले जण्हीऊँ नंद्याँ उन्हाळा में भी जीवती रै।

रूँखड़ा आपाणे जीवन रो आधार है। रूँखड़ा वना कोरी धरती वत्ती गरम व्हे। वातावरण ने शुद्ध राखवा रे अलावा ई वायरा रो वैग रोके और अणी में नमी राखे। अगर वायरा रो वैग न्हीं रुके और यो हूको रै तो गरम वई ने ऊॅँचो उठै। आंघ्याँ चाले, धूरो उड़ै अने हालताँ रेगिस्तान हरीकी वेह्वा लागे, वादरा ऊँचाइज रई जावे नै वरस्याँ वनाइज वायरा लारे आगे परा जावे।

अणी करताँ हाऊ वरखा पाणी रे वाते रूँखड़ा री साणी राखणी पड़ेगा। धरती म्हूँ पाणी काड़वा में कंजूसी और घर घर में थोड़ी खुली जगाँ राखी ने वणी में हरियाली राखणी पडे़गा। सड़काँ अने खेताँ रे कनारे मारोमार रूँखड़ा लगावणा पड़ेगा अने जंगलाँ ने पाछा जीवता करवा रो काम करणों पड़ेगा। एकली सरकार यो काम न्हीं कर सके, आँपाँ सबने मिल जुल ने करणों पड़ेगा।

-ज्ञान प्रकाश सोनी

 

This entry was posted in जल संरक्षण, मेवाड़ी प्रभाग (MEWARI SECTION) and tagged , , , , , , . Bookmark the permalink.

2 Responses to वरखा पाणी – रूँखड़ा रे साणी

  1. d.d derashri says:

    It appears that posting of comments for Fatehsagar are closed . so i am posting my comment here .
    D.D.Derashri

    As per my information Maharana Jaisingh built a talab at 2.5Km north of Udaipur near Devali village by building earthen embankment between Motimahal to Neemach mata hillock in year 1687( V.S.1744). This Tank was breached during regime of Maharana Bhim singh ji destroying “Saheliyon ki bari”. In V.S. year 1993 Maharana Fateh singh got rebuilt this tank and constructed present Fateh sagar at a cost ofRs.6,14,189.00 including cost of feeder of Rs.28559.00. The foundaton stone was laid by Duke of Connaught from England, the third son of Maharani Victoriya on 4th April 1889( Chaitra Sudi 4 V.S.1945) & the embankment was named as Connaught Dam, but on request of Shahzada it was re-named as Fateh sagar.
    Sh Fateh singh ji used to write his name as Fateh Singh and not as Fatah singh , so this should be pronounced as Fateh sagar.

    • admin says:

      Many thanks for your valuable and very informative comments. For posting comments, we had a limit of 60 days after the date of publication of a post. Now we have raised it to 365 days so that readers can comment even if the post is read at a later date. As mentioned in the post with copy of relevant part of Veer Vinod, (an authentic publication pertaining to history of Mewar,) the name of this lake has been mentioned as फ़तह सरोवर and correct Urdu word is also फ़तह – not फ़तेह. Water resources department is using फतह सागर and road signs mention फतेह सागर. In foreign countries, lot of attention is given on correct pronunciation and spellings. We should also take it seriously and therefore what Maharana used to do is not important. If the correct wording is फतह सागर in Hindi then it should be Fatah Saagar in Hindi.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *