संपन्नता और हमारी आदतें

Inage Prosperityअमेरिका के दो समृद्धि गुरुओं, टॉम कॉरले तथा दवे राम्से, ने पाँच साल तक अमीरों और गरीबों की आदतों का अध्ययन कर कुछ रोचक निष्कर्ष निकाले हैं जिनसे यह विदित होता है कि मुख्यतः हमारी आदतें हमें संपन्नता या गरीबी की ओर ले जाती हैं। यह सिर्फ़ कोरी कल्पना है कि संपन्न लोग विरासत से धन पाते हैं और इस कारण धनी हैं। भारत में तो इतने अध्ययन नहीं होते लेकिन अमेरिका में हुए अध्ययनों के अनुसार वहाँ केवल 5% लोग ही अपनी विरासत के कारण धनी हैं। यदि आप भी संपन्नता के इच्छुक हैं तो अपनी मान्यताओं व सोच में परिवर्तन करने के प्रयास करें और केवल भाग्य को न कोसें। रामचरित मानस के सुंदरकांड (चौपाई – 2, छंद – 50 के बाद) में लक्ष्मण जी ने कहा है कि – “देव देव आलसी पुकारा” और इसलिये संपन्न बनने के लिये आलस्य त्याग भी आवश्यक है। अमीरों और गरीबों की आदतों में अंतर की जानकारी आगे पढ़िये।

संपन्न बनने के लिये वित्तीय, तकनीकि और व्यवस्थापन निपुणता तो आवश्यक है ही, रोज़मर्रा की कुछ आदतें और जीवन शैली का चुनाव भी संपन्न बनने की आकांक्षा के लिये महत्वपूर्ण है। श्री टॉम कॉरले ने अपने लंबे अनुसंधान के बाद जो परिणाम निकाले, उनके आधार पर  :-

(1)   सही भोजन का चुनाव ज़रूरी

70% सम्पन्न लोग 300 कैलोरी से कम का बासी भोजन (junk food) प्रतिदिन खाते हैं जबकि 97% गरीब लोग 300 कैलोरी से अधिक का बासी भोजन (junk food) प्रतिदिन खाते हैं।

(2)   मन की बात मन में रखें –

संपन्न लोगों में से मात्र 11.6% लोग अपने मन की बात का सरेआम खुलासा करते हैं जबकि गरीब लोगों में से 69% लोग अपने मन की बात का सरेआम खुलासा करते हैं।

(3)   लक्ष्य (Goals) निर्धारित करें

संपन्न लोगों में से 80% लोग अपने लक्ष्य निर्धारित कर उन पर अपना ध्यान केन्द्रित रखते हैं जबकि गरीब लोगों में से केवल 12% ही ऐसा करते हैं। अपने लक्ष्यों को लिखित में रखने वाले लोगों की संख्या गरीबों की तुलना में संपन्न लोगों में चार गुनी अधिक पाई गई। “लक्ष्य” (Goal) और “इच्छा” (Wish) में भारी अंतर होता है यह ध्यान में रखना भी ज़रूरी है।

(4)   स्वस्थ रहें –

संपन्न लोगों में से 76% लोग सप्ताह में कम से कम चार दिन कसरत करते हैं जबकि गरीब लोगों में से केवल 23% ही ऐसा करते हैं। संपन्नता के लिये स्वस्थ शरीर और शांत मन आवश्यक है जो नियमित कसरत से ही संभव है।

(5)   व्यवस्थित रहें –

संपन्न लोगों में से 81% लोग रोज़ की कार्यसूची (To-do List)बनाते हैं और इसमें से कितने काम हो पाए यह परखते हैं जबकि गरीब लोगों में से केवल 19% ही ऐसा करते हैं। आजकल लगभग सभी मोबाइल फ़ोनों में ऐसी सूची बनाने की सुविधा है और नहीं तो एक सामान्य डायरी या स्लिप पर ऐसी सूची बनाने की आदत डालना बहुत ही उपयोगी रहता है और कोई काम हो पर स्लिप की सूची में उस काम पर लाइन फिराना बहुत अच्छा लगता है।

(6)   नियमित स्वाध्याय करें –

संपन्न लोगों में से 81% लोग रोज़ अपने कार्यक्षेत्र या रुचि से संबंधित विषयों पर कम से कम 30 मिनिट स्वाध्याय करते हैं जबकि गरीब लोगों में से केवल 2% ही ऐसा करते हैं। तो संपन्नता की ओर अग्रसर होने के लिये अपने कार्यक्षेत्र या रुचि से संबंधित विषयों पर स्वाध्याय करना होगा। आजकल इंटरनेट पर लगभग हर विषय पर उपयोगी जानकारी उपलब्ध है जिसका लाभ उठाना आसान है।

(7)   शुभकामनाएं और धन्यवाद ज्ञापित करें –

संपन्न लोगों में से 80% लोग अपने हितैषियों, रिश्तेदारों, बुज़ुर्गों और मित्रों को समय समय पर शुभकामनाएं और धन्यवाद ज्ञापित करते हैं जबकि गरीब लोगों में से केवल 11% ही ऐसा करते हैं। परेशानी आने पर या गरज होने पर ही किसी को याद करना ख़ुदगर्ज़ी होती है जबकि अकारण ही समय समय पर संपर्क रखना आपसी रिश्तों में प्रगाढ़ता की निशानी और यही आड़े समय पर काम आती है।  

(8)   टेलिविजन कम देखें –

संपन्न लोगों में से 67% लोग रोज़ केवल एक घंटा या इससे कम देर तक टेलिविजन देखते हैं और इनमें से केवल 6% ही बिग बॉस जैसे रियलिटी शो देखते हैं जबकि गरीब लोगों में से 78% लोग रियलिटी शो सहित देखते हैं एक घंटा या इससे अधिक देर तक टेलिविजन देखते हैं। तो संपन्नता के लिये टेलिविजन देखने के बजाय अन्य रचनात्मक काम करने में ही आपना हित है।

(9)   जुआं खेलने से बचें –

संपन्न लोगों में से केवल 23% लोग ही जुआं या इससे जुड़े कृत्य करते हैं जबकि गरीब लोगों में से 52% लोग ऐसा करते हैं। एम सी एक्स पर लेन-देन, शेयर खरीद बिक्री, वायदा बाज़ार, आदि भी अप्रत्यक्ष जुआं ही है, इसलिये इससे दूर रहने में ही लाभ है।

(10)      अपना रास्ता ख़ुद चुनें –

अक्षरशः लोगों की सलाह या परंपरा की राह पर चलना सुरक्षित हो सकता हैं लेकिन सफ़लता के मार्ग पर कम ही ले जाता है इसलिये लोगों की सलाह लें, परम्परा को देखें लेकिन इन सब में जो जो भाग स्वयं को उचित लगें उन्हें अपनाते हुए अपना रास्ता ख़ुद चुनें तो संपन्नता की ओर बढ़ने में आसानी रहेगी।

-ज्ञान प्रकाश सोनी

संदर्भ –

http://richhabits.net/?s=20+things

http://www.news.com.au/business/things-rich-people-do-which-poor-people-dont/story-e6frfm1i-1226768722971

This entry was posted in विविध, संपन्नता, हिंदी प्रभाग (Hindi Section) and tagged , , , , , , , , , . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *