Author Archives: gpsoni

श्री मोक्षगुंडम विश्वैश्वरैया का जीवन परिचय

भारत में हम प्रतिवर्ष 15 सितम्बर को “अभियंता दिवस” मनाते हैं जो प्रसिद्ध अभियंता और प्रशासक, भारतरत्न श्री मोक्षगुंडम विश्वैश्वरैया का जन्म दिन है । यह प्रथा इंस्टिट्यूशन ऑफ़ इंजीनियर्स (भारत) ने इनके उत्कृष्ट कार्यों के स्मरण के उद्देश्य से … Continue reading

Posted in जीवन परिचय, प्रेरणा के स्त्रोत, हिंदी प्रभाग (Hindi Section) | Tagged , , , , , , , , | Leave a comment

राजस्थान के बाँध और उनकी सुरक्षा व्यवस्था – एक सिंहावलोकन

राजस्थान में सदियों से बाँध बना कर जल संचय की परम्परा रही है । आज़ादी से पहले राजस्थान बाँध निर्माण में अग्रणी था पर आज़ादी के बाद लगातार पिछड़ता जा रहा है । इसी के साथ पुराने बाँधों की सुरक्षा … Continue reading

Posted in अपना राजस्थान, जल प्रबंधन, हिंदी प्रभाग (Hindi Section) | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

अभियंताओं का सामाजिक दायित्व

“अभियंता दिवस” पर विशेष आलेख भारत में हर वर्ष 15 सितंबर को “अभियंता दिवस” मनाया जाता है। प्रतिभा के धनी प्रसिद्ध अभियंता भारत रत्न डॉ. श्री मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का जन्म इस दिन हुआ था और उनके उत्कृष्ट कार्यों के स्मरण … Continue reading

Posted in विविध, हिंदी प्रभाग (Hindi Section) | Tagged , , , , , , , | 2 Comments

मनरेगा कार्यों के लिये सामग्री व्यवस्थापन नीति में बदलाव की आवश्यकता

केवल राजस्थान में ही मनरेगा योजना के लिये 3.4 करोड़ सीमेंट के कट्टे और 8 करोड़ किलो स्टील सरिया प्रतिवर्ष खरीदा जाना अनुमानित है जिसे पंचायतवार बिलौचियों के माध्यम से न खरीद कर राज्य स्तर पर सीधा निर्माताओं से खरीदा … Continue reading

Posted in विकास योजनाएं, हिंदी प्रभाग (Hindi Section) | Tagged , , | 1 Comment

उदयपुर का जल प्रबंधन – अतीत और आज

उदयपुर और उदयपुर के आसपास की झीलें तो अपने पुरखों के उत्कृष्ट “जल प्रबंधन” की जीती जागती तस्वीरें हैं ही, इस शहर के स्थल चयन से ले कर शहरकोट के अंदर के भू उपयोग में हरियाली के प्रावधान, तत्कालीन भवनों … Continue reading

Posted in जल प्रबंधन, जल संरक्षण, नगरीय विकास, पर्यावरण, हिंदी प्रभाग (Hindi Section) | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

आहार बदलें – पानी बचाएं

  दिनचर्या की तुलना में आहार में बदलाव कर हम कहीं अधिक पानी बचा सकते हैं । जहाँ एक किलो गेहूँ के उत्पादन के लिये औसतन 1000 लिटर पानी की आवश्यकता होती है वहीं एक किलो जौ के लिये 700 … Continue reading

Posted in जल प्रबंधन, जल बचत, जल संरक्षण, हिंदी प्रभाग (Hindi Section) | Tagged , , , , , , , , | 4 Comments

वाइ-फ़ाइ रूटरों (Wi-Fi routers) से स्वास्थ्य पर कुप्रभाव

नव विकसित वाइ-फ़ाइ तकनीक, जिससे बिना किन्हीं तारों के कम्प्यूटरों, सैल-फ़ोनों आदि को इंटरनेट से जोड़ा जा सकता है और दूरस्थ प्रिंटर से प्रिंट लिये जा सकते हैं, का लोक प्रिय होना और दिनों दिन उपयोग बढ़ना स्वाभाविक ही है। … Continue reading

Posted in पर्यावरण, स्वास्थ्य, हिंदी प्रभाग (Hindi Section) | Tagged , , , , , , | Leave a comment

NEED TO CHECK POLLUTION BEFORE RECHARGING GROUND WATER

The most suitable solution for current water crisis is to adopt techniques of Rain Water Harvesting (RWH) & Ground Water Recharge (GWR), as both these are low cost and complementary solution to the rising water crisis. However, before adopting this, … Continue reading

Posted in ENGLISH SECTION (अंग्रेज़ी प्रभाग), Environment, Technical Articles, Water Management | Tagged , , , | 1 Comment

संपन्नता और हमारी आदतें

अमेरिका के दो समृद्धि गुरुओं, टॉम कॉरले तथा दवे राम्से, ने पाँच साल तक अमीरों और गरीबों की आदतों का अध्ययन कर कुछ रोचक निष्कर्ष निकाले हैं जिनसे यह विदित होता है कि मुख्यतः हमारी आदतें हमें संपन्नता या गरीबी … Continue reading

Posted in विविध, संपन्नता, हिंदी प्रभाग (Hindi Section) | Tagged , , , , , , , , , | Leave a comment

“विश्व शौचालय दिवस – 19 नवम्बर” – भारत में उपेक्षित क्यों ?

संयुक्त राष्ट्र संघ ने अच्छे स्वास्थ्य के लिये शौचालय की महत्ता की ओर ध्यान आकर्षित करने के उद्देश्य से प्रति वर्ष 19 नवम्बर को “विश्व  शौचालय  दिवस” मनाने का एक प्रस्ताव पारित किया है। विश्व बैंक की एक रिपोर्ट के अनुसार … Continue reading

Posted in नगरीय विकास, पर्यावरण, विकास योजनाएं, स्वास्थ्य, हिंदी प्रभाग (Hindi Section) | Tagged , , , , , , , | Leave a comment