उदयपुर के एक अभियंता द्वारा विकसित अनूठी वैब साइट – शब्दकोश डॉट कॉम

इंटरनेट पर तुरंत देखें – अंग्रेज़ी शब्दों के हिंदी पर्याय

Maneesh SKdotcom photo.jepgकम्प्यूटरों बढ़ते उपयोग व इंटरनेट पर उपलब्ध अथाह जानकारी के इस युग में अंग्रेजी में उपलब्ध जानकारी को समझने और अनुवाद करने के लिये अंग्रेजी शब्दों के हिंदी पर्याय तुरंत इंटरनेट पर उपलब्ध हों यह समय की आवश्यकता है। इस आवश्यकता को महसूस किया उदयपुर में जन्मे मनीष सोनी ने और अपने अकेले दम खम पर shabdkosh.com नामक एक ऐसी वैब साइट तैयार की जिस पर आप तत्काल किसी अंग्रेज़ी शब्द का हिन्दी पर्याय और हिंदी शब्द का अंग्रेज़ी पर्याय ढूँढ सकते हैं।

सन् 2003 में स्थापित किये जाने के बाद से इस साइट की लोकप्रियता में लगातार वृद्धि हो रही है। प्रसिद्ध अंर्तराष्टीय वैब साइट रेंकिग कंपनी एलेक्सा डॉट कॉम (alexa.com) के अनुसार इस साइट की भारत में रेंक 332 वीं है व विश्व में 5732 वीं है जो इसकी लोकप्रियता दर्शाती है। (दिसम्बर 2011) वर्तमान् में प्रति दिन एक लाख से अधिक बार इस वैब साइट पर क्लिक किया जाता है और एमएसएन व गूगल सर्च पर "English Hindi Dictionary" सर्च किये जाने पर यह साइट पहले स्थान पर दर्शाई मिलती है। इस वेब साइट का उपयोग करने वालों में निजी उपयोगकर्ताओं के अलावा कई सरकारी विभाग, भारतीय रेल, हिंदी समाचार पत्रों के प्रकाशक, दूरदर्शन का समाचार विभाग, बी बी सी और डिस्कवरी चैनल जैसी एजेन्सियाँ सम्मिलित हैं।

किसी अंग्रेज़ी शब्द का हिंदी पर्याय या अर्थ ढूंढने के लिये इंटरनेट पर www.shabdkosh.com साइट खोलनी होती है और निर्धारित स्थान पर जिस अंग्रेज़ी शब्द का हिंदी पर्याय या अर्थ चाहिये वह टाइप करना होता है। खोज बटन दबाते ही हिंदी पर्याय या अर्थ सामने आ जाता है। इस शब्दकोश को काम में लेना कम्प्यूटर तकनीक के कम जानकार लोगों के लिये भी काफी आसान है। यदि किसी को देवनागरी लिपि नहीं आती हो तो ऐसे प्रयोक्ताओं के लिये रोमन लिपि में अंग्रेजी शब्दों के हिंदी पर्याय लिखे हुए आ जाते है। इसके अलावा शब्दकोश डॉट कॉम पर हिंदी शब्दों के अंग्रेज़ी पर्याय की भी खोज की जा सकती है और समान अर्थ वाले अंग्रेजी शब्द मालूम किये जा सकते हैं। अगर कोई शब्द बहुवचन या भूतकालीन रूप में खोजा जाता है और अर्थ नहीं मिल पाता तो वैब साइट स्वयं शब्द के मूल स्वरूप को खोज कर उसका अर्थ दर्शाने की क्षमता रखती है। जिन शब्दों के हिंदी अर्थ फिर भी इस शब्दकोश में नहीं मिल पाते उनका दैनिक रिकॉर्ड यह साइट रखती है ताकि इस साइट के संचालन कर्ता ऐसे शब्दों के अर्थ शीघ्रताशीघ्र जोड़ सकें।

इस साइट पर प्रतिदिन एक नए शब्द का वाक्य में प्रयोग व एक नई प्रेरणादायक सूक्ति (Quotation) भी प्रस्तुत की जाती है। उपयोगकर्ता अगर चाहें तो इन्हें अपने ई- मेल पते पर रोज़ाना मुफ्त मंगवा सकते हैं। इस साइट पर आप चाहे गए अंग्रेज़ी और हिंदी शब्दों का सही उच्चारण भी सुन सकते हैं और विशेष बात यह है कि इस उच्चारण की आवाज़ कम्प्यूटर जनित है जो एक विशिष्ट सोफ़्टवेयर से संचालित होती है।

इस अनोखे ऑन लाइन अंग्रेजी – हिंदी शब्दकोश की वैब साइट shabdkosh.com की परिकल्पना, प्रस्तुतिकरण और संधारण करने वाले मनीष सोनी उदयपुर के सैंट पॉल्स स्कूल के छात्र रहे हैं व सन् 1994 में जेईई में 244 वीं रेंक अर्जित करने के बाद इन्होंने आई आई टी नई दिल्ली से इलेक्ट्रिकल इंजिनीयरिंग विषय में स्नातक की उपाधि 1998 में अर्जित की थी। कुछ समय तक दिल्ली और बैंगलूरू में नौकरी करने के बाद अमेरिका में रहते हुए इन्होंने 2001 में मास्टर ऑफ़ इंजीनियरिंग और सन् 2010 में एम.बी.ए. की उपाधि अर्जित की और विगत कई वर्षों तक अमेरिका के टेक्सास राज्य में एक निजी कंपनी में कार्य करने के बाद कुछ ही माह पूर्व से बैंगलूरू में कार्यरत हैं। इनके दादाजी स्वर्गीय श्री दयालचंद्र सोनी प्रसिद्ध गॉंधीवादी विचारक, लेखक और भारत सरकार के मदन मोहन मालवीय पुरस्कार प्राप्त प्रौढ़ शिक्षा विशेषज्ञ थे तथा इनके पिता ज्ञान प्रकाश सोनी राजस्थान सरकार के जल संसाधन विभाग में अधीक्षण अभियंता के पद से सेवा निवृत हुए हैं। इस पूरे परिवार के मातृभाषा हिंदी से संबंधित काम में विशेष रुचि और इंटरनेट पर अच्छे अंग्रेज़ी हिंदी शब्दकोश के अभाव ने मनीष सोनी को यह वैब साइट बनाने के लिये प्रोत्साहित किया जिसे ये अपनी नौकरी के साथ एक हॉबी के रूप में संचालित करते हैं। ये पिछले कई वर्षों से हिंदी अंग्रेज़ी शब्दावली का संकलन कर रहे थे और सन् 2003 में लगभग 25,000 शब्दों के साथ इन्होंने शब्दकोश की यह वैब साइट स्थापित की। आज इस शब्दकोश में 1,75,000 से अधिक शब्द हैं और इसमें लगातार बढ़ोतरी की जा रही है। इस शब्दकोश में चिकित्सा व इंजीनियरिंग क्षेत्र के भी कई शब्दों के हिंदी पर्याय भी उपलब्ध हैं।

इंटरनेट पर ज्ञानकोष तैयार करने वाली विकीपीडिया साइट का हिंदी संस्करण अपने लेखकों को इस साइट का उपयोग करने की सलाह अपने मार्गदर्शन प्रभाग में देता है और कई रिव्यूकर्ताओं ने अपनी विभिन्न साइटों पर अपने रिव्यू इस साइट को बहुत ही उपयोगी बताया है।

शब्दकोश डॉट कॉम जैसी वैब साइट्स के कारण मोटे मोटे शब्दकोश यानि डिक्शनरियॉं अपने साथ रखना आवश्यक नहीं रहा है। बिज़नैस स्टैंडर्ड नामक पत्र में छपे एक लेख के अनुसार इसके परिणामस्वरूप डिक्शनरियों की बिक्री में लगभग 10 प्रतिशत की गिरावट आई है।

उदयपुर के निवासियों के लिये यह गौरव का विषय है कि यहॉं जन्मे एक अभियंता ने अकेले ही इतना उपयोगी कार्य कर दिखाया है। इस कार्य में मनीष को अपने परिजनों और मित्रों से लगातार सहयोग मिल रहा है और इस शब्दकोश की वैब साइट में ऐसी व्यवस्था है कि इसके उपयोगकर्ता भी नए शब्दार्थ सुझा सकते हैं। इस वैब साइट को और उपयोगी बनाने के लिये मनीष लगातार प्रयासरत हैं।

– ज्ञान प्रकाश सोनी

This entry was posted in विविध and tagged , , , , , , . Bookmark the permalink.

2 Responses to उदयपुर के एक अभियंता द्वारा विकसित अनूठी वैब साइट – शब्दकोश डॉट कॉम

  1. Alexia Addo says:

    I like this web site very much so much great info.

  2. Veervikrampuri says:

    भाषा समनधित समसयाओ का बहुत सुनदर शरेषठ हल खोजा है आपको बधा,ई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *