Category Archives: हिंदी प्रभाग (Hindi Section)

हिंदी भाषा में लिखे लेख

दुबई में लग रहे नीम और बड़, हम लगा रहे खजूर

  दुबई में  नीम, पीपल और बरगद जैसे वृक्ष लगाने को प्राथमिकता दी जा रही है जबकि यहाँ भारत में हम आधुनिकता या फैशन के नाम पर खजूर के वृक्ष लगाने लगे हैं। नीम, पीपल और बरगद जैसे वृक्ष घने … Continue reading

Posted in जल प्रबंधन, पर्यावरण, हिंदी प्रभाग (Hindi Section) | Tagged , , , , , , , , , , , | Leave a comment

कुछ देर नंगे पाँव चलें – स्वस्थ रहें

जो लोग अधिक स्वस्थ, युवा और ओजस्वी दिखने की प्रबल इच्छा रखते हैं उन्हें प्रतिदिन कम से कम दस मिनट नंगे पाँव हरी घास या बालू पर चलना चाहिये । ऐसा करने से स्वास्थ्य संबंधी कई लाभ होते हैं जिसमें … Continue reading

Posted in स्वास्थ्य, हिंदी प्रभाग (Hindi Section) | Tagged , , , , , | Leave a comment

आवश्यक है विकास कार्यों में लागत नियंत्रण और घोषित लाभों के लिये सजगता

सामान्यतः विकास कार्यों के प्रस्ताव किसी जन समस्या के निदान के लिये बनाए जाते हैं और इनका उद्देश्य प्रासंगिक समस्या का निदान करना होता है। देखा यह जा रहा है कि विकास कार्यों के प्रस्ताव बनाते समय लागत नियंत्रण पर … Continue reading

Posted in अपना उदयपुर, जल प्रबंधन, नगरीय विकास, विकास योजनाएं, हिंदी प्रभाग (Hindi Section) | Tagged , , , , , | 2 Comments

हिंदी को भाषा के बजाय एक बोली बनाने का कुप्रयास

हिंदी दिवस 2012 पर विशेष -ज्ञान प्रकाश सोनी 14 सितंबर 1947 को स्वाधीन भारत की संविधान सभा ने एक मत से यह निर्णय लिया कि हिन्दी ही भारत की राजभाषा होगी । इसी महत्वपूर्ण निर्णय के महत्व को प्रतिपादित करने … Continue reading

Posted in हिंदी गरिमा | Tagged , , , , | Leave a comment

भारत में अमीरों और गरीबों के बीच बढ़ती खाई

किसी भी राष्ट्र की स्थिरता, प्रभुसत्ता, चिरायु प्रगति, आपसी सद्भावना आदि के लिये यह आवश्यक है कि वहाँ के नागरिकों के अमीर और गरीब तबके के आर्थिक आधार में फ़र्क कम हो। अमीर और गरीब तबके के बीच अंतर सभी … Continue reading

Posted in विविध | Tagged , , , , , , | Leave a comment

मँहगाई की मार से दम तोड़ता न्यायालय की अवमानना का कानून

भारत में मँहगाई लगातार बढ़ती जा रही है लेकिन अधिकतर कानूनों में जिन ज़ुर्मानों का प्रावधान है वे जिस साल बने थे तब से वहाँ के वहाँ ही हैं और इस कारण कई कानून लगभग प्रभावहीन होते जा रहे हैं … Continue reading

Posted in नगरीय विकास, न्याय व्यवस्था, पर्यावरण | Tagged , , , , | Leave a comment

सत्यमेव जयते की वैब साइट का हिंदी प्रभाग – क्या यही भविष्य की हिंदी है ?

पिछले कुछ दिनों से श्री आमिर खान के टेलिविजन धारावाहिक – "सत्यमेव जयते" के विभिन्न सोपानों (episodes) का प्रसारण हुआ जिसकी सारे देश में प्रशंसा हुई क्योंकि जो मुद्दे उठाए गए वे सभी बहुत प्रासंगिक हैं और कड़ी मेहनत के … Continue reading

Posted in हिंदी गरिमा | Tagged , , , , , , | Leave a comment

सीएफ़एल (CFL) बल्ब और ट्यूब – सोच कर लगाएँ और खतरों से रहें सावधान

-ज्ञान प्रकाश सोनी बिजली की कमी और इसकी बढ़ती लागत को ध्यान में रखते हुए बिजली की बचत के लिये  सीएफ़एल बल्ब और ट्यूब लगाना समय की आवश्यकता है इसलिये इन्हें लगाएं ज़रूर पर इसके साथ ही इसके ख़तरों से … Continue reading

Posted in घरेलू नुस्के, पर्यावरण, विविध, स्वास्थ्य | Tagged , , , , , , , , , , , , , , | 1 Comment

एनिकटों के निर्माण के प्रति सजगता की आवश्यकता

– डी. डी. देराश्री राजस्थान राज्य में सिंचाई विभाग, वन विभाग, भू-संरक्षण विभाग, ज़िला परिषदों, पंचायतों आदि द्वारा सतही जल के संरक्षण (वॉटर हारवेस्टिंग) हेतु एनिकट बनाये जाते हैं। देखने में यह आया है कि इनके अनियोजित निर्माण से कई … Continue reading

Posted in अपना राजस्थान, जल प्रबंधन, विकास योजनाएं | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

देवस्थान विभाग, राजस्थान की दरियादिली की कीमत

राजस्थान में आज़ादी से पहले कई राजाओं ने मंदिरों के दिन प्रतिदिन के खर्च की स्वचालित व्यवस्था के लिये काफ़ी आबादी या कृषी योग्य भूमि के खातेदारी अधिकार संबंधित मंदिर के नाम किये थे और मंदिर की मूर्ति को नाबालिग घोषित किया था … Continue reading

Posted in अपना राजस्थान, कतरनों की कतरन | Tagged , , | Leave a comment